satyajit ray biography in hindi
satyajit ray biography in hindi

satyajit ray biography in hindi | सत्यजीत राय इन हिंदी , सत्यजीत राय जीवन परिचय, satyajit ray jiwan parichay, satyajit ray jiwani, सत्यजीत राय जीवनी

सत्यजीत राय का जीवन परिचय

satyajit ray in hindi : सत्यजीत राय भारत के उन महान् युग पुरुषों में से एक थे , जिनका अन्तर्मन सदैव मानवीय संवेदनाओं एवं व्यवस्था से उत्पन्न विषमताओं और त्रासदियों से साक्षात्कार करता रहता है । वह एक ऐसे फिल्मकार थे , जो मानवीय सम्बन्धों की आधारशिला पर अंकुरित सामाजिक समस्याओं को फिल्मों के सशक्त माध्यम से मानव – चिन्तन के लिए महत्वपूर्ण विषय बनाने का निरन्तर प्रयास करते रहे हैं ।

satyajit ray in hindi : स्वभाव से मानवतावादी तथा शैली से परम्परा वादी सत्यजीत राय अपने आसपास बिखरी समस्याओं का चयन तथा उनके अनुरूप स्थान , पटकथा , संवाद एवं कलाकारों का चयन करके उसे एक नवीनतम् दृष्टिकोण प्रदान करते थे । फिल्म निर्माण के इस संयोजन की मौलिकता ने उन्हें विश्व के महानतम् फिल्म निर्देशकों की श्रेणी में खड़ा कर दिया ।

सत्यजीत राय एक भारतीय फिल्म निर्देशक और पटकथा लेखक थे।  उन्हें 1950 और 1960-70 के दशक में वयस्क-उन्मुख स्वतंत्र फिल्म की शैली में उनके अग्रणी काम के लिए जाना जाता है।  रे को अक्सर अपने समय का सबसे महान और सबसे प्रभावशाली भारतीय फिल्म निर्माता माना जाता है।

satyajit ray biography in hindi : सत्यजीत राय एक भारतीय लेखक, निर्देशक और दृश्य कलाकार थे।  उन्हें व्यापक रूप से 20 वीं शताब्दी के सबसे महान और सबसे महत्वपूर्ण फिल्म निर्माताओं में से एक माना जाता है। सत्यजीत राय का जन्म कोलकाता, भारत में हुआ था।  वह अपनी फिल्मों के लिए सबसे ज्यादा जाने जाते हैं, जो उनके धीमी गति से चलने वाले कैमरे, सूक्ष्म प्रकाश व्यवस्था और उदास, अभिव्यक्तिवादी परिदृश्यों की विशेषता थी।

satyajit ray biography in hindi

नामसत्यजीत राय
जन्म2 मई , 1922
जन्म स्थानकलकत्ता शहर
मृत्यु23 अप्रैल 1992
मृत्यु स्थानकोलकाता , भारत
कार्यकाल1922-1992
माता-पितासुकुमार राय और सुप्रभा देवी
सम्मानभारत रत्न, ऑस्कर पुरस्कार,अकिरा कुरोसावा पुरस्कार
योगदानफिल्मों मे – निर्देशक के रूप में
कार्यफिल्म निर्देशक
पत्नीबिजोय राय
बच्चेसन्दीप राय
शिक्षाबालीगंज सरकारी हाईस्कूल , कलकत्ता
पुस्तकें अवर फिल्म्स , देयर फिल्म्स ( 1976 ) , स्टोरीज ( 1987 ) , द चेस प्लेयर्स एण्ड अदर स्क्रीन प्लेज
satyajit ray biography in hindi

सत्यजीत राय के फिल्म का रोचक तथ्य

satyajit ray in hindi : सत्यजीत राय का काम सिनेमा के इतिहास में सबसे प्रसिद्ध और चिरस्थायी है।  एक बंगाली, रे का जन्म शोमेकर्स के परिवार में हुआ था।  अपने करियर के शुरुआती वर्षों में उन्होंने एक फोटोग्राफर के रूप में काम किया, पहले कोलकाता (तब कलकत्ता) और बाद में यूरोप में।  भारत लौटने पर, रे ने विज्ञापन की दुनिया में अपनी जगह बनाई, जहां दृश्य कहानी कहने की उनकी प्रवृत्ति फली-फूली।

satyajit ray in hindi :  सत्यजीत राय की फिल्में सूक्ष्म और मनोवैज्ञानिक से लेकर भव्य और अभिव्यक्तिवादी तक होती हैं।  उनकी शुरुआती फिल्में बहुत कम बजट में बनीं।  1950 के दशक के दौरान, रे ने बंगाली भाषा में फिल्मों की एक श्रृंखला बनाई, जो एक बड़ी सफलता थी, और उन्हें भारत के महानतम फिल्म निर्माताओं में से एक की स्थिति में पहुंचा दिया।

सत्यजीत राय की सबसे प्रसिद्ध कृतियों में फीचर-लेंथ फिल्में हैं, हालांकि उन्होंने शॉर्ट्स, टेलीविजन विज्ञापनों और वृत्तचित्रों का भी निर्देशन किया है।  सत्यजीत राय की कई फिल्में महिलाओं के जीवन और समाज में महिलाओं के साथ व्यवहार करने के तरीकों पर केंद्रित हैं।  रे एक कुशल दृश्य कलाकार और ग्राफिक्स डिजाइनर भी थे, और उनका काम अक्सर 1950 और 1960 के न्यू वेव सिनेमा आंदोलन से जुड़ा होता है।

satyajit ray in hindi :  सामान्य तौर पर, वह एक न्यूनतावादी था, कहानी के भावनात्मक पहलुओं पर ध्यान केंद्रित करना पसंद करता था।  इंगमार बर्गमैन की बाद की फिल्मों पर उन्हें एक प्रमुख प्रभाव के रूप में उद्धृत किया गया है। सत्यजीत रे के बारे में वीडियो के इस संग्रह के साथ अब तक के सबसे प्रभावशाली फिल्म निर्माताओं में से एक के जीवन और फिल्मों का अन्वेषण करें।

satyajit ray biography in hindi :   सत्यजीत राय की फिल्मों को उनके धीमी गति से चलने वाले कैमरे, सूक्ष्म प्रकाश व्यवस्था, और उदास, अभिव्यक्तिवादी परिदृश्य की विशेषता थी।  ‘पाथेर पांचाली’, ‘अपराजितो’ और ‘शतरंज के खिलाड़ी’ जैसी फिल्में देखें। वे हमेशा उन पात्रों के अनुभव से चिंतित रहते हैं जो असाधारण घटनाओं का अनुभव करने वाले सामान्य लोग हैं। वह, सबसे बढ़कर, असाधारण स्वाद और संवेदनशीलता के कलाकार हैं।

अन्य पढ़े-


सत्यजीत राय का जन्म कब और कहाँ हुआ?

satyajit ray in hindi : सत्यजीत राय का जन्म 2 मई , 1922 को कलकत्ता शहर में हुआ । इनके पिता सुकुमार राय उस समय के प्रमुख लेखक , पत्रकार एवं चित्रकार थे। पिता तथा इनके पितामह कट्टर ब्रह्मसमाजी थे , लेकिन सत्यजीत पर उसका अधिक प्रभाव नहीं पड़ा । संवेदनशील पिता का साया सत्यजीत के सिर से ढाई वर्ष की अल्पायु में ही उठ गया । परिणामस्वरूप , इनका पालन – पोषण इनकी माता सुप्रभा देवी ने किया । आठ वर्ष की आयु में इन्होंने बालीगंज सरकारी हाईस्कूल , कलकत्ता में प्रवेश लिया ।

satyajit ray in hindi : इसके पश्चात् कलकत्ता के प्रेसीडेन्सी कॉलेज से स्नातक की डिग्री प्राप्त की । कला के विशेष प्रशिक्षण की दृष्टि से आपने शान्तिनिकेतन में कला विभाग में प्रवेश लिया । यहाँ प्रसिद्ध चित्रकार नन्दलाल बोस उनके शिक्षक थे । विद्वानों का सानिध्य उन्हें प्राप्त था । यहाँ व्यतीत किए गए दो वर्ष राय के लिए वरदान सिद्ध हुए । इस अवधि में उनकी प्रतिभा व विचारों को नवीन प्रखरता प्राप्त हुई , जोकि जीवनपर्यन्त उनका मार्ग प्रशस्त करती रही ।

satyajit ray biography in hindi : अध्ययन पूरा करने के पश्चात् कलकत्ता में स्थापित ब्रिटिश एडवरटाइजिंग कम्पनी डी.जी. केयमर एण्ड कम्पनी में विजुएलाइजर के रूप में नौकरी कर ली । यहाँ विज्ञापनों के माध्यम से अपनी फिल्मी एवं कला की प्रतिभा का प्रयोग करके आत्मविश्वास प्राप्त किया । सन् 1950 में यह लन्दन गए , जहाँ इन्होंने 99 फिल्में देखीं । इन फिल्मों को देखने का उद्देश्य मात्र मनोरंजन नहीं था , अपितु फिल्म निर्माण कला का अध्ययन करके कुछ सीखना था ।


सत्यजीत राय का पहले फिल्म पाथेर पांचाली मे सफलता


satyajit ray biography in hindi : फ्रांसीसी फिल्म निर्माता जॉ रेनुआ को उन्होंने ‘ रिवर ‘ फिल्म की शूटिंग करते भी देखा । इस फिल्मावलोकन से सत्यजीत राय भी एक महान फिल्म बनाने के लिए प्रेरित हुए । वह लंदन से लौटते समय फिल्म की पटकथा के लिए प्रयास करते रहे , जिसके परिणामस्वरूप ‘ पाथेर पांचाली ‘ फिल्म की पटकथा को जन्म देने में सफल हुए । सन् 1952 में प्रथम फिल्म ‘ पाथेर पांचाली ‘ का निर्माण कार्य प्रारम्भ किया । यह फिल्म सन् 1955 में बनकर तैयार हुई । इस फिल्म की देश – विदेश में सर्वत्र सराहना की गई ।

इसे अन्तर्राष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित किया गया । प्रथम फिल्म की आशातीत सफलता ने सत्यजीत राय को पूरी तरह से फिल्म निर्माण की ओर उन्मुख किया और सन् 1956 में वह नौकरी छोड़कर फिल्म निर्माण में व्यस्त हो गए । सत्यजीत राय ने फिल्म निर्माण का उद्देश्य कभी भी व्यावसायिक नहीं रखा । उन्होंने 1955 से लेकर 1991 तक लगभग 35 फिल्मों का निर्माण किया जो सभी कलात्मक फिल्मों में एक ऐतिहासिक मील का पत्थर सिद्ध हुईं । उन्होंने प्रत्येक फिल्म के निर्माण के पश्चात् सपना देखा कि अभी एक महान् फिल्म और बनानी है ।

satyajit ray in hindi : इसी विचार के जीवन्त रहते प्रत्येक फिल्म के साथ मील के पत्थर गढ़ते रहे , सफलता व प्रसिद्धि मिलती रही और मंजिल आगे बढ़ती गई। चालीस वर्ष के फिल्मी जीवन में पाथेर पांचाली , अपराजितो , पारस पत्थर , जल सागर , अपूर संसार , देवी , तीन कन्या , कंचनजंगा , अभिजन , महानगर , चारुलता , प्रतिद्वन्द्वी , शतरंज के खिलाड़ी , सद्गति , घरे वाहरे या वायर , गणशत्रु शाखा – प्रोशाखा , आगन्तुक आदि महत्वपूर्ण पुरस्कृत एवं अत्यधिक प्रशंसित फिल्मों का निर्माण किया ।

प्रारम्भ से ही राय की फिल्मों को राष्ट्रीय – अन्तर्राष्ट्रीय फिल्म समारोहों में पुरस्कार से सम्मानित किया गया । पाथेर – पांचाली को 1956 में कान्स विशेष पुरस्कार तथा 1957 में सैन फ्रांसिस्को में सर्वश्रेष्ठ फिल्म का पुरस्कार मिला । अपराजितों को वेनिस ग्राण्ड प्रिक्स ( 1957 ) तथा सैन फ्रांसिस्को में सर्वश्रेष्ठ निर्देशन के पुरस्कार से सम्मानित किया गया । अपूर संसार को सेल्जनिक पुरस्कार तथा सदरलैण्ड ट्रॉफी ( 1960 ) , डिस्टेन्ट थन्डर ( 1973 ) को बर्लिन फिल्म फेस्टिविल में गोल्डन बीयर पुरस्कार प्राप्त हुआ ।

satyajit ray biography in hindi : इसके अतिरिक्त अन्य फिल्मों को भी राष्ट्रीय तथा अन्तर्राष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित किया जाता रहा । इनकी फिल्म ‘ आगन्तुक को 39 वें राष्ट्रीय फिल्म समारोह पुरस्कारों में सर्वश्रेष्ठ फीचर फिल्म तथा सर्वश्रेष्ठ निर्देशन के पुरस्कार से सम्मानित किया गया था ।

सत्यजीत राय के गुण क्या क्या थे?

satyajit ray biography in hindi : सत्यजीत राय केवल उत्कृष्ट फिल्म निर्देशक ही नहीं , अपितु बहुआयामी प्रतिभा के धनी थे । वह उत्कृष्ट फिल्म निर्देशक , संवेदनशील लेखक , संगीतकार , अभिकल्पक , चित्रकार तथा टाइपोग्राफी की अभिकल्पना में मौलिक योगदान दिया । अंग्रेजी टाइफेजिज , रे रोमन तथा रे कलाकार थे । चित्रकला में औपचारिक प्रशिक्षण प्राप्त करने के कारण रेखांकन तथा विजार की अभिकल्पना एवं अमरीकन फिल्म के लिए करके विज्ञापन क्षेत्र में भी योगदान दिया ।

satyajit ray biography in hindi : कला प्रशिक्षण का प्रयोग वह अपनी फिल्मों को अधिकतर विज्ञापन सामग्री एवं पोस्टर बनाने में करते थे । संगीत की पहली धुन अंग्रेजी टिप्परेटी सीखी । वह मोजार्ट , बीथोवन और बाक के संगीत को आज भी बहुत पसन्द करते थे । उन्होंने आइवरी मर्चेन्ट की फिल्म ‘ शेक्सपियरवाला ‘ का संगीत तैयार किया था और उसके बाद अपनी अधिकांश फिल्मों का संगीत भी स्वयं ही तैयार किया ।

सत्यजीत राय फिल्म और पुस्तकें

satyajit ray in hindi : अपने पिता द्वारा प्रकाशित पत्रिका ‘ संदेश ‘ का पुनः प्रकाशन किया । राय उसमें बच्चों के लिए कहानियाँ लिखते थे तथा चित्रांकन करते थे । अपनी कुछ फिल्मों जैसे- कंचनजंगा ( उनकी पहली रंगीन फिल्म ) , आगन्तुक शाखा – प्रोशाखा आदि की कहानी भी स्वयं ही लिखी थी ।

साइट एण्ड साउण्ड सीक्वेंस में फिल्मी लेख भी लिखे थे । उन्होंने कुछ पुस्तकें अवर फिल्म्स , देयर फिल्म्स ( 1976 ) , स्टोरीज ( 1987 ) , द चेस प्लेयर्स एण्ड अदर स्क्रीन प्लेज आदि लिखी थीं । इस असाधारण व्यक्ति के धनी पुरुष ने सन् 1947 में प्रथम फिल्म सोसायटी की स्थापना की तथा सम्पूर्ण जीवन कलात्मक फिल्मों के विकास एवं निर्माण में समर्पित कर दिया ।

satyajit ray biography in hindi : इस जीवन समर्पण के लिए उन्हें सन् 1992 में फिल्मों के सर्वोच्च पुरस्कार विशेष ऑस्कर पुरस्कार तथा अकिरा कुरोसावा पुरस्कार से सम्मानित किया गया । इस वर्ष भारत के सर्वोच्च पुरस्कार ‘ भारत रत्न ‘ से भी इस कला मर्मज्ञ को पुरस्कृत कर सम्मान प्रदान किया गया ।

सत्यजीत राय को प्राप्त सम्मान

  • 1957 –  पद्मश्री     
  • 1964 – पद्म भूषण
  • 1967 – मैग्सेसे पुरस्कार
  • 1971 – स्टार ऑफ यूगोस्लाविया
  • 1973 – डी . लिट् दिल्ली विश्वविद्यालय
  • 1974 – डी . लिटू रॉयल कॉलेज ऑफ आर्ट्स लन्दन
  • 1976 – पद्म विभूषण
  • 1978 –  डी . लिट् ऑक्सफोर्ड यूनीवर्सिटी विशेष पुरस्कार , वर्लिन फिल्म फेस्टि
  • 1982 – होमेज टू सत्यजीत राय , कान्स फिल्म समारोह स्पेशल गोल्डन लायन ऑफ सेंट मार्क वेनिस फिल्म समारोह । 1983-  फैलोशिप ऑफ द ब्रिटिश फिल्म इंस्टीट्यूट
  • 1985 – डी . लिट् . , कलकत्ता विश्वविद्यालय
  • 1985 – सोवियत लैंड , नेहरू पुरस्कार
  • 1987 – लीजन डी ऑनर , फ्रांस
  • 1991 – कान्स फिल्म समारोह में होमेज एल्बम प्रकाशित तथा सत्यजीत राय पर चित्रों की प्रदर्शनी
  • 1992- विशेष ऑस्कर पुरस्कार ( 1991 के लिए ) अकिरा कुरासोवा पुरस्कार , भारत रत्न

सत्यजीत राय द्वारा निर्मित फिल्में ‘

  • 1955 पांथेर पांचाली
  • 1956 अपराजितो
  • 1958 पारस पत्थर
  • 1958 जल सागर
  • 1959 अपूर संसार
  • 1969 अरण्थेर दिन – रात्रि
  • 1970 प्रतिद्वन्द्वी
  • 1971 सिक्किम
  • 1972 द इनर आई ( वृत्तचित्र चित्रकार विनोद बिहारी मुखर्जी पर )
  • 1960 देवी
  • 1961 तीन कन्या
  • 1961 रबीन्द्रनाथ टैगोर ( वृत्तचित्र )
  • 1962 कंचनजंगा
  • 1962 अभिजन
  • 1963 महानगर
  • 1964 चारुलता
  • 1964 टू ( Two )
  • 1965 कापुरुष – ओ – महापुरुष
  • 1966 नायक
  • 1967 चिड़ियाखाना
  • 1968 गूपी ग्येने बाघ ब्येने ( Goopy Gyne Bagha Byne ) 1973 अशानी संकेत ( Distant Thunder )
  • 1974 सोनार केला
  • 1975 जना अरण्य
  • 1976 बाला ( बाल सरस्वती पर वृत्त चित्र )
  • 1977 शतरंज के खिलाड़ी
  • 1978 जौए बाबा फीलूनाथ
  • 1980 पिकू
  • 1980 हीरक राजार देसे
  • 1981 सद्गति
  • 1984 घरे बाहरे या बार
  • 1987 सुकुमार राय ( वृत्त चित्र )
  • 1989 गणशत्रु 1990 शाखा – प्रोशाखा
  • 1991 आगन्तुक

satyajit ray biography in hindi FAQ

सत्यजीत राय की अंतिम फिल्म कौन सी थी?

घरे बायरे

सत्यजीत रे को नोबेल पुरस्कार कब मिला?

साल 1913 गीतांजलि के लिए

सत्यजीत राय की पहली फिल्म कौन सी थी?

पाथेर पांचाली

सत्यजीत राय की भाषा शैली बताये।

बांग्ला भाषा

सत्यजीत राय का पहली रंगीन फिल्म का नाम क्या था?

कंचनजंगा